जवान बेटी को पीछे से लंड डालकर चोदा

sex story मैं विक्रम सिंह राठोर आप सभी का antarvasnasexystories.com में स्वागत करता हूँ। दोस्तों मैं एक रिटायर्ड ऑफिसर हूँ। मेरा घर जम्मू में पड़ता है। मेरे 2 लड़के और 3 लड़कियाँ है। मेरे बेटे अमरीका में रहते है। वो दोनों इंजीनियर है। वही पर वो गोरी लड़कियों से शादी करके सेटल हो चुके है। मेरी कुल 3 लड़कियाँ है माया, बबली और शालू। माया और बबली की तो शादी हो चुकी है। वो दोनों अपनी ससुराल में रहती है। शालू ही मेरे पास रहती थी। मेरी पत्नी का देहांत हो चुका है। मैं अपनी छोटी बेटी शालू को बहुत प्यार करता हूँ। एक ऑफिसर होने के नाते मुझे शुरू से ही पीने का काफी शौक था। उपर से दोस्तों जम्मू में काफी ठण्ड भी पडती है। ये पिछले साल की बात है। अक्तूबर का महीना चल रहा था। शाम को मैं और मेरी बेटी शालू घर के लान में बारबेक्यू कर रहे थे। मेरी तरह शालू को नॉन वेज खाना काफी पसंद था। उसने एक बड़ी सी भट्टी जला दी थी। आग जलने लगी थी। जल्द ही ढेर साला कोयला बन गया था। मैंने जल्दी से चिकेन पर मसाले लगाये और एक लोहे की सीक में घुसा कर मैंने भट्टी में डाल दिया। बाहर आसमान साफ़ था। थोड़ी ठंड पड़ रही थी। बाहर लान में ही मैंने अपनी बेटी शालू के साथ भुना हुआ स्वादिस्ट चिकन खाया और वाइन पी। उसके बाद हम दोनों अंदर चले गये और टीवी देखने लगे।

कहने को तो हम दोनों बाप बेटी थे पर कोई अगर हम दोनों को देखता तो कहता की ये लोग दोस्त है। मेरी बेटी शालू मुझे अपनी छोटी से छोटी बात बताती थी। जिस दिन उसे एम सी आती थी वो मुझे बताती थी। जिस दिन बंद होती थी वो बताती थी। हम दोनों सोफे पर बैठकर टीवी देख रहे थे। मैंने चैनेल बदला तो जिस्म 2 फिल्म आ रही थी। हम दोनों के हाथ में वाइन का ग्लास था। उस फिल्म में हीरो हीरोइन को कसके चोदा। मैं और शालू उस फिल्म को देख रहे थे। इस तरह हम दोनों ने काफी शराब पी ली। अचानक मेरी जवान और चुदासी लड़की शालू गर्म हो गयी और उसने मेरे होठो पर किस कर लिया। फिर मैं भी शराब के नशे में आ गया। मैं भूल गया की वो मेरी बेटी है। हम दोनों आपस में गर्म गर्म किस करने लगे। हम दोनों से लेदर जैकेट पहन रखी थी। शालू सोफे पर ही पसर गयी। वो लेट गयी। वो शरारत करने लगी। उसने जबरदस्ती मुझे अपने उपर लिटा लिया। फिर हम किस करने लगे। शालू आज मुझे कसके चुदना चाहती थी। उसकी आँखें सबकुछ बता रही थी। मैंने भी उसके ताजे गुलाब से सेक्सी होठो को चूसने लगा। कुछ ही देर में मेरा लंड खड़ा हो गया था। दोस्तों मैं 60 साल का रिटायर्ड था पर आज भी मुझमे काफी दम था। मैं किसी भी लड़की की सील तोड़कर उसे चोद सकता था। धीरे धीरे शालू को किस करते हुए मेरा 6” का लौड़ा खड़ा हो गया था। मुझे बहुत चढ़ गयी थी। जब शालू भी तैयार थी तो मैं भी रेडी हो गया। मैंने उसके बूब्स पर हाथ रख दिया। शालू बहुत गोरी और सुंदर लड़की थी। उसका बदन बहुत गोरा, भरा हुआ और सुडौल था। फिगर कमाल का था। वो बहुत सेक्सी और हॉट माल थी। 34, 28, 30 का फिगर था उसका। छरहरा और बिलकुल फिट जिस्म था। वो २० साल की एक जवान, आकर्षक नवयौवना है। उसके बदन की खाल तो इतनी गोरी और मुलायम थी की स्वर्ग की अफ़सराये भी उससे शरमा जाए। उसके ओठ, मम्मे, रेशमी काले बाल उसकी खूबसूरती बढ़ा देते थे। उसकी लचकती छरहरी पतली कमर बहुत कामुक थी और चूत सबसे जादा बहुत मस्त थी। शालू को सेक्स करना बहुत पसंद था। 

धीरे धीरे हम दोनों गर्म हो गये थे। मैंने उसकी जैकेट पर वहां पर हाथ रख दिया जहाँ शालू के बूब्स थे। वो “ हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की आवाजे निकालने लगी। उसके बाद मैने उसकी जैकेट की आगे वाली बटन खोल दी और अपना हाथ अंदर डाल दिया। शालू ने अंदर एक टी शर्ट पहन रखी थी। मैंने तेज तेज अपनी बेटी के रसीले दूध को दबा रहा था। टीवी अब भी खुला हुआ था। वो हॉट सेक्सी फिल्म आ रही थी। हीरो हीरोइन को कभी चोदता कभी बेड से उसके हाथ में बांध देता। वो चुदाई कर रहा था। धीरे धीरे मेरी बेटी शालू पूरी तरह गर्म हो गयी थी।
“पापा प्लीस फक मी रिअली हार्ड। कमोन फक मी!!” शालू मुझसे मिन्नतें करने लगी।
उसकी बात सुनकर मेरा भी दिमाग खराब हो गया। मैंने अपने कपड़े उतारना शुरू कर दिए। टीवी पर फिल्म चल रही थी। मैंने सोचा की आज अपनी बेटी चूत मारूंगा। मैने शालू के होठ काफी देर तक चूसे। फिर उसकी जींस की बेल्ट मैंने खोल दी। फिर उसकी बटन खोली और जीप नीचे खींच दी। शालू की जींस मैंने निकाल दी। फिर उसकी पेंटी मैंने निकाल दी। उसके पैर संगमरमर की तरह गोले, सुंदर और चिकने थे। आज पहली बार मैं अपनी बेटी को चोदने जा रहा था। शालू ने अपने पैर खोल दिये। सामने उसकी रसीली चूत थी। मैं उसके गुलाबी भोसड़े का दर्शन करने लगा। उसका भोसड़ा कितना गुलाबी और खूबसूरत था। फिर मैंने लेट गया और अपनी सगी बेटी की चूत पीने लग गया। शालू “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….” की कामुक आवाजे निकाल रही थी। उसे चूत में सनसनी हो रही थी। मैं जल्दी जल्दी उसकी चुद्दी चाटने लगा। मुझे बहुत मजा आ रहा था। मैं भूल गया था की वो मेरी बेटी है।  शालू मचल गयी। वो कामवासना के वशीभूत हो गयी और अपने पके पके पपीते(मम्मो) को खुद की अपनी जीभ में लगाने लगी और किसी प्यासी चुदासी कुतिया की तरह चाटके लगी।

“…हमममम अहह्ह्ह्हह… अई…अई….अई…” शालू आहे भरने लगी। मैं इधर नीचे उनका मस्त मस्त मलाईदार भोसडा पी रहा था। वो पूरी तरह से कुवारी थी। सील बंद माल थी। मैं अपनी जीभ शालू की बुर के छेद में डालने लगा तो वो मचलने लगी। “..सी सी सी सी… हा हा हा..ओ हो हो….पापा जी आराम से!!” शालू आहें लेने लगी और मेरा सिर अपनी चूत पर से हटाने की नाकाम कोशिश करने लगी। पर मैं भी असली चोदू बाप था। शालू बार बार अपनों दोनों जांघें सिकोड़ने और बंद करने लगी। ‘हट मादरचोद!! अपना भोसड़ा पीने दे। हट हरामजादी !! अपनी चूत पिला मुझे” मैंने उसे डांट दिया। उसने अपनी दोनों गोरी जांघें फिर से खोल दी। स्वर्ग जाने का दरवज्जा ठीक मेरे सामने था। आज मैं स्वर्ग जाना चाहता था। मैं फिर से उसकी बुर पीने लगा। मैंने काफी देर तक अपनी खूबसूरत और जवान बीबी की कुवारी चूत पी। उसके बाद हम दोनों खड़े हो गये।
“गेट ऑफ़ योर क्लॉथस बिच। आई विल फक यू रियली हार्ड” मैंने शालू से कहा
वो कपड़े निकालने लगी। उधर मैं भी पूरी तरह से नंगा हो गया। उनके बाद मैंने शालू को जमीन पर बिठा लिया। वो नंगी थी और बहुत हॉट और सेक्सी माल लग रही थी।
“सक माय कोक बिच!!” मैंने कहा
शालू जमीन पर बैठ गयी। उसने तुरंत ही मेरा लंड हाथ में ले लिया और फेटने लगी। वो मेरे मोटे लौड़े को देखकर आश्चर्य कर रही थी। वो मुश्किल से मेरे लंड को पकड़ पा रही थी क्यूंकि ये बहुत मोटा था। मैं फर्श पर खड़ा था। फिर धीरे धीरे वो हाथ आगे पीछे चलाकर फेटने लगी। मुझे मजा आ रहा था। मैंने अपनी कमर पर दोनों हाथ रख दिए। मैं खड़ा होकर मजा ले रहा था। मैं उसके दूध को हाथ में लेकर सहलाने लगा। कुछ देर बाद शालू ने पूरा का पूरा लंड मुंह में ले लिया और मेरा लंड चूसने लगी।

“……आआआआअह्हह्हह… सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” मैं आवाजे निकालने लगा। कुछ देर बाद तो शालू किसी चुदक्कड़ लडकी की तरह मेरा लंड चूसने लगी। उसे भरपूर मजा आ रहा था। मैं उसकी नंगी और चिकनी पीठ पर हाथ से सहलाने लगा। शालू तो मस्त लड़की निकली। उसने बताया की उसने ब्लू फिल्मो में इसी तरह लड़की को लंड चूसते देखा था, वही से वो सीख गयी। कुछ देर बाद शालू के हाथो की रफ्तार बढ़ गयी और वो बिजली की रफ्तार से मेरा लंड फेटने लगी। मैं गर्म गर्म आवाजे निकाल रहा था। शालू तेज तेज अपने सिर को आगे पीछे करके मेरा मोटा लंड चूस रही थी। मुझे बहुत मजा आ रहा था। उसके रसीले और गुलाबी होठ मेरे लंड पर जल्दी जल्दी दौड़ रहे थे। मैं जन्नत में पहुच गया था। वो मेरे सुपाड़े को अच्छे से चूस रही थी। मैं उसकी चुचियों को दबा रहा था और निपल्स को अपनी ऊँगली से छेड़ रहा था। वो मेरे लौड़े से मंजन कर रही थी।
आह ….मुझे बहुत मजा आ रहा था। आज एक बाप अपनी बेटी से लंड चूसा रहा था। हम दोनों इसी तरह अद्भुत रति क्रीड़ा करने लगे। कबसे मेरा मन था की वो मेरे लंड को चूसे और मुख मैथुन करे। उसके बाद हम दोनों सेक्स करे। शालू पर चुदाई का खुमार छाया हुआ था। उसके हाथ तो रुकने का नाम ही नही ले रहे थे और जल्दी जल्दी मेरे लंड को फेट रहे थे। ऐसा लग रहा था की वो लौड़े को खा जाना चाहती है।
 मैंने अपनी खूबसूरत, जवान और चुदासी लड़की को पीछे से देख रहा था। उसने खुद को मेज पर झुका दिया। उसके पुट्ठे, बहुत खूबसूरत और मलाई दार थे। शालू के पैर जमीन पर थे जबकि उसने खुद को मेज पर झुका लिया था। शालू भी चाहती थी की आज मैं उसे तडपा तडपा कर चोदूं। उसके गोल मटोल पुट्ठो पर रस्सी छप गयी थी। उसके बाद मैंने 8 – 10 चाटे उसके लपर लपर करते पुट्ठो पर मार दिए। “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” कहकर शालू आवाजे निकालने लगी। मुझे अच्छा लग रहा था। उसके बाद मैं जमीन पर बैठ गया और अपनी  बेटी के पुट्ठे पीने लगा। 

ओह्ह गॉड!! कितने मस्त और मुलायम पुट्ठे थे। मैने अपना मुंह शालू के पुट्ठे के बीच में डाल दिया और उसकी चूत पीने लगा। कुछ देर बाद मैं खड़ा हो गया और शालू के ठीक पीछे आ गया। मैंने अपना लंड उसकी कुवारी चूत के छेद पर रख दिया और जोर से धक्का मारा। शालू की सील टूट गयी। मेरा लौड़ा भीतर घुस गया। मैं उसे जल्दी जल्दी चोदने लगा। वो “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की आवाजे निकाल रही थी। मैंने अपनी जवान और चुदासी बेटी की नंगी पीठ पर हाथ रख दिया। सहलाते सहलाते मैंने उसे पीछे से डौगी स्टाइल में चोदने लगा। शालू “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” की गर्म गर्म आवाजे निकाल रही थी। मैंने उसके गोल मटोल पुट्ठो पर कई बार चांटे मारे और 20 मिनट उसकी चूत पीछे से चोदी। फिर मैंने अपना पानी उसकी चुद्दी में ही छोड़ दिया। 

loading...